वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Sunday, 13 November 2011

बदल गई ज़िन्दगी



बदल गई ज़िन्दगी
==========

अभावों में था
सब कुछ
कुछ न होते हुए भी
उमंग थी
हास भी और उल्लास भी
जो झलकता था पासंग ।

अब सब कुछ है
बस हंसी नहीं है 
जीवन में और होठों पर
न मन में उमंग
न चेहरे पर हंसी
न क्रियाओं में उल्लास !

ज़िन्दगी है दौड़ती हुई
दौड़ते जा रहे हैं हम
चाहे-अनचाहे 
छोटी-छोटी खुशियाँ
अपने-सपने
सब कुछ पीछे छोड़ते
रेल की तरह
एक ही दिशा में !

मिठाई- नए कपड़े
त्यौहार पर ही आते
खूब खींचतान के बाद
जिन्हें पा कर
हो ही जाती थी बाग-बाग
मानो खुल गए हों भाग
वह खुशी
वह मिठास
महीनों बिसुरती नहीं थी
अब जब आते ही रहते हैं
इशारों पर
परिधान और मिठाईयाँ
मगर अब कहाँ वह मिठास
इन मिठाइयों में
कहाँ वह उमंग-ओ-हुलास
मैचिंग वाली ड्रैस में
जो था
पट्टेदर पजामे
और
पोपलीन-फ़ुल्लालेण वाले झबले में !

डाकिये की आवाज सुन
खिल ही जाता था
अम्मां का चेहरा
उन के संग
घर भर में
कितने चेहरे खिल जाते
जब पढी़ जाती आँगन में
दूर-दिसावर से आई
बापू की प्रीत रची पाती
उस प्यारी पाती को
कितनी बार पढ़ जाते
हर अक्षर कुछ जोड़ जाता
बहुत गहरे पैठ जाता ।

अब तो
तुरत-फ़ुरत होती हैं बात
बात भी बेबात
मोबाइलिया वार्तालाप
जिस में नहीं होती
कोई बेताबी
इंतजार भी होता है क्षणिक
जो मिट ही जाता है
अनचाही रिंगटोन के साथ
अब तो
काल का इंतज़ार
करता है बोर
बेकरारी लगती है बेकार
उतरती ही नहीं
खुमारी प्रीत की
बिल जता देता है
बहुत हुआ
इतनी बहुत है खुशी !

फ़ेसबुक पर है
चाहे-अनचाहे दोस्तों की
अथाह भीड़
कौन समझे
किसी की पीड़
दो-चार नहीं
सैकड़ों रहते हैं कतार में
हर दिन
जुड़ते-घटते भी जाते हैं
मगर घटते नहीं
दिल-ओ-दिमाग में पसरे दर्द ।

लाईक-कमेण्ट करते -करते
याद भी नहीं रख पाते
कब क्या लिखा
याद आते हैं
बचपन के दोस्त
जो समझते थे अनकही
जानते थे गलत सही
जो एक सा रोया करते
एक सा हँसा करते
हमारे और अपने
दुख-सुख में
हमेशा हमारे साथ ।

शादी की तैयारियाँ
महीनों चलतीं
लगन-बान-टीका
गीतों की महफ़िल सजती
रातीजोगा होता
उबटन-मेंहदी और हल्दी
पंगत-संगत में होती
साँझे चूल्हे पकती प्रीत ।
अब
विवाह होते ठेकों पर
गीत-संगीत
भोजन-कलेवा ठेकों पर
ना जुड़ते रिश्ते
ना जुड़ते दिल
बनावटी हँसी
गलों में डाल बनावटी मालाएँ
मिल लेते हैं गले
फ़िर ये चले ओर वो चले ।

देर रात
कलम लिए हाथ में
सोचती हूँ मैं
अब लिखूं क्या
इस जीवन का
जिस में तैर रही है
चारों और संवेदनहीनता
बदलते समय के साथ
कितनी बदल गई है ज़िन्दगी
वो तत्व अब कहाँ हैं
जीवन में जो भरते थे रस
लोग उनको रहे हैं तरस ।

सुशीला श्योराण



24 comments:

  1. समय के बदलते रंग को खूबसूरती के साथ आपने लिख दिया है.

    ReplyDelete
  2. डाकिये की आवाज सुन
    खिल ही जाता था
    अम्मां का चेहरा
    उन के संग
    घर भर में
    कितने चेहरे खिल जाते
    जब पढी़ जाती आँगन में
    दूर-दिसावर से आई
    बापू की प्रीत रची पाती
    उस प्यारी पाती को
    कितनी बार पढ़ जाते
    हर अक्षर कुछ जोड़ जाता
    बहुत गहरे पैठ जाता ।....
    kitna sabkuch badal gaya hai tabhi to

    देर रात
    कलम लिए हाथ में
    सोचती हूँ मैं
    अब लिखूं क्या
    इस जीवन का
    जिस में तैर रही है
    चारों और संवेदनहीनता
    बदलते समय के साथ
    कितनी बदल गई है ज़िन्दगी
    वो तत्व अब कहाँ हैं
    जीवन में जो भरते थे रस
    लोग उनको रहे हैं तरस ।
    ............ jane kahan gaye wo din !

    ReplyDelete
  3. वास्तविकता की छटा बिखेरती कविता।
    ----
    कल 14/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. अति सुन्दर , बधाई.

    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारने का कष्ट करें, आभारी होऊंगा .

    ReplyDelete
  5. भूषणजी, रश्मिजी, यशवंतजी और शुक्ला जी ! आप ब्लोग पर आये, मेरी रचना पढ़ी हार्दिक आभार ।
    यूँ ही अपना स्नेह बनाए रखें !

    धन्यवाद आप "बदल गई ज़िन्दगी" को "नयी पुरानी हलचल" पर लिंक कर रहे हैं । इस मंच पर सभी की रचनाएँ और हल्चल पढ़ना एक सुखद अनुभव होता है ।

    ReplyDelete
  6. bahut bahut khoobsurat kavita hai..kitna achcha chitran .. kal aur aaj ka.. kitna kuch chhot gaya is bhaag doud mein..

    ReplyDelete
  7. ना जुड़ते रिश्ते
    ना जुड़ते दिल
    बनावटी हँसी
    गलों में डाल बनावटी मालाएँ
    मिल लेते हैं गले
    फ़िर ये चले ओर वो चले ।

    बदलती आबो-हवा और बदलते हालात का सुन्दर चित्रण किया आपने अपनी कविता के ज़रिये,सुशीला जी.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने

    ReplyDelete
  9. Superb writing !!!
    awesome expressions n the way u narrated the whole intricacies n complexities of life deserves a read.

    Fantastic read :)

    ReplyDelete
  10. a very nice poem... just the daily life...
    its true to some extents... but at some points the outlook could be different...

    ReplyDelete
  11. सच कहा है, आपने बदलते समय के साथ
    कितनी बदल गई है ज़िन्दगी... हर बात बनावटी, हर चीज नकली है यहाँ...

    ReplyDelete
  12. आपकी रचना सुहाने अतीत में खीच रही है ...
    बहुत सुन्दर ..........
    मेरे ब्लॉग पे आपका हार्दिक स्वागत है ..

    ReplyDelete
  13. याद आते हैं
    बचपन के दोस्त
    जो समझते थे अनकही
    सुंदर!

    ReplyDelete
  14. चारों और संवेदनहीनता
    बदलते समय के साथ
    कितनी बदल गई है ज़िन्दगी....

    सत्याभिव्यक्ति.... संवेदनशील रचना...
    सादर...

    ReplyDelete
  15. समय के बदलते परिवेश को बखूबी लिखा है ..सच अब जीवन में मिठास का अभाव हो गया है ..


    कृपया वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो करें ..सेव करें ..बस हो गया .

    ReplyDelete
  16. अक्षरश: सही लिखा है आपने इस अभिव्‍यक्ति में ...बधाई के साथ शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  17. सारगर्भित रचना ..... अब तो भागदौड़ बची है....

    ReplyDelete
  18. वाह ! वाह !! वाह !!!
    बहुत ही सुन्दर शब्दों में गुंथी बेहतरीन/लाजवाब कविता !
    "डाकिये की आवाज सुन
    खिल ही जाता था
    अम्मां का चेहरा
    उन के संग
    घर भर में
    कितने चेहरे खिल जाते
    जब पढी़ जाती आँगन में
    दूर-दिसावर से आई
    बापू की प्रीत रची पाती
    उस प्यारी पाती को
    कितनी बार पढ़ जाते
    हर अक्षर कुछ जोड़ जाता
    बहुत गहरे पैठ जाता ।...."
    =========बधाई हो ! =========

    ReplyDelete
  19. सच में , कितनी बदल गई है ज़िंदगी । पर हम वहीं पहुँचते हैं जिस ओर हम चलते हैं । बहुत अच्छी रचना ।

    ReplyDelete
  20. अब लिखूं क्या
    इस जीवन का
    जिस में तैर रही है
    चारों और संवेदनहीनता
    बदलते समय के साथ
    कितनी बदल गई है ज़िन्दगी
    वो तत्व अब कहाँ हैं
    जीवन में जो भरते थे रस
    लोग उनको रहे हैं तरस । .....

    आज के जीवन की झाँकी...,बहुत सुंदर.... त्रासदी,थकन, घुटन, पीड़ा....आँसू....बस ये ही सब फिर भी मुस्कराहट बनी रहे हर हाल में...शुभ कामनाएँ ..

    सस्नेह
    गीता पंडित

    ReplyDelete
  21. कई अर्थों को समेटे हुए एक अच्छी सारगर्भित रचना...............

    ReplyDelete
  22. चाहे-अनचाहे
    छोटी-छोटी खुशियाँ
    अपने-सपने
    सब कुछ पीछे छोड़ते.bhut achchi mnbhavn prastuti.

    ReplyDelete
  23. Aaj k is ug k drshan ek kvita me hi krwa diye...laaa-jwab

    ReplyDelete