वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Sunday, 5 February 2012

तेरी याद



शरद की धूप क्यूँ तन मेरे उतरती नहीं,
चाँदनी क्यूँ आँगन मेरे उतरती नहीं |

बहारे चमन भी क्यूँ मुझको लुभाती नहीं,
ये शोखियाँ क्यूँ घर-डेरे उतरती नहीं |

हरसू महफ़िल, राग-रंग, फ़ाग और मेले,
ये साज़धुन क्यूँ रूह तेरे उतरती नहीं |

मन का पपीहा छेड़े राग बेहद हसीं,
अमराई पे कोयल सवेरे उतरती नहीं |

एक मुद्द्त हुई इन फ़ासलों को नापते,
तेरी याद दिल को घेरे उतरती नहीं |

आँखें गोया हो गई हैं सावन-भादो,
याद तेरी मन में अंवेरे उतरती नहीं |

तेरा साया हर लमहा मेरे साथ है,
प्रीत ने लिए तुम संग फ़ेरे, उतरती नहीं|

-सुशीला श्योराण 


28 comments:

  1. Replies
    1. शुक्रिया संगीता जी ।

      Delete
  2. भावपूर्ण अभिव्यक्ति..
    सादर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार विद्या जी।

      Delete
  3. एक मुद्द्त हुई इन फ़ासलों को नापते
    तेरी याद दिल को घेरे उतरती नहीं... बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete
  4. एक मुद्द्त हुई इन फ़ासलों को नापते,
    तेरी याद दिल को घेरे उतरती नहीं |

    बेहतरीन लिखी हैं मैम!

    सादर

    ReplyDelete
  5. कल 06/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. एक मुद्द्त हुई इन फ़ासलों को नापते,
    तेरी याद दिल को घेरे उतरती नहीं |

    बहुत सुंदर । यादें ही हैं जो हमें जीवन के रंगीन सपने दिखा जाती हैं । इन्हें सजोकर रखना एक बहुत बड़ी बात मानी जाती है । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. गज़ल पसंद आई शुक्रिया प्रेम सरोवर जी ।
      आपकी पोस्ट पर जल्द ही आँऊगी। देरी के लिए मुआफ़ी

      सादर

      Delete
  7. मन का पपीहा छेड़े राग बेहद हसीं,
    अमराई पे कोयल सवेरे उतरती नहीं |

    एक मुद्द्त हुई इन फ़ासलों को नापते,
    तेरी याद दिल को घेरे उतरती नहीं |
    vah bahut hi prbhavshali rachana ...sadar badhai

    ReplyDelete
    Replies
    1. तारीफ़ के लिए शुक्रिया नवीन जी।

      Delete
  8. आँखें गोया हो गई हैं सावन-भादों,
    याद तेरी मन में अंवेरे उतरती नहीं|
    बहुत ही सुंदर भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार भूषण जी।

      Delete
  9. Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया धीरेन्द्र जी।

      Delete
  10. एक मुद्द्त हुई इन फ़ासलों को नापते,
    तेरी याद दिल को घेरे उतरती नहीं |
    बहुत सुंदर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका स्वागत और शुक्रिया स्वाति जी।

      Delete
  11. सुन्दर एवं बेहतरीन प्रस्तुति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत-बहुत शुक्रिया रीना जी।

      Delete
  12. एक मुद्द्त हुई इन फ़ासलों को नापते,
    तेरी याद दिल को घेरे उतरती नहीं |
    BEJOD RACHNA

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार नीरज जी।

      Delete
  13. एक मुद्द्त हुई इन फ़ासलों को नापते,
    तेरी याद दिल को घेरे उतरती नहीं ...

    यादें अक्सर धोखा देती हैं ...
    लाजवाब लिखा है आपने ...

    ReplyDelete
  14. इस सार्थक प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  15. एक मुद्द्त हुई इन फ़ासलों को नापते,
    तेरी याद दिल को घेरे उतरती नहीं |bahut badhiyaa....

    ReplyDelete
  16. सुंदर, स्पष्ट मन के भाव....

    ReplyDelete
  17. Bahut sundar rachana hai! Pahlee baar aana hua aapke blog pe!

    ReplyDelete
  18. Bahut sundar rachana hai! Pahlee baar aana hua aapke blogpe!

    ReplyDelete