वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Saturday, 7 January 2012

कुहासा




फ़ैला कुहासा
चहुँ ओर धुन्ध
प्रकृति का उत्साह
पड़ गया है मंद

ये अलसाई-सी
सीली-सी दोपहर
मन पर पसरी
कोहरे की चादर


मन बुझा-बुझा
तन शीतल-सा
भीतर ही भीतर
कुछ घुटता-सा

प्रकॄति संग
जुड़ा तन-मन
पंच-तत्व की काया
कहाँ जुदा हम ?

खिलती हैं कलियाँ
गाता है मन
हर आपदा संग
उजड़ता है जन


प्रकृति है जीवनाधार
असंख्य इसके उपकार
दें हम भी प्रतिदान कुछ
जीवन अपना लें सँवार

-सुशीला श्योराण 

23 comments:

  1. .शब्दों को चुन-चुन कर तराशा है आपने ...प्रशंसनीय रचना।

    ReplyDelete
  2. प्रकृति है जीवनाधार
    असंख्य इसके उपकार
    दें हम भी प्रतिदान कुछ
    जीवन अपना लें सँवार...धुंध में उठते जीवन विचार

    ReplyDelete
  3. कल 09/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. अति सुन्दर ...प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. प्रकृति है जीवनाधार
    असंख्य इसके उपकार
    दें हम भी प्रतिदान कुछ
    जीवन अपना लें सँवार
    bahut hi sundar bhavon ki prastuti .... sach hai hm prakriti ke prti behad laparvah hote ja rhe hai ak prerana dayee rachana.... abhar Sushila ji .

    ReplyDelete
  6. रश्मि प्रभा... ,@डॉ० डंडा लखनवी ,@संजय भास्कर,@Naveen Mani Tripathi आप सबका हार्दिक आभार ।

    @यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) - मंच प्रदान करने हेतु हार्दिक आभार ।

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब...
    शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी रचना है मैडम आपकी

    ReplyDelete
  9. प्रकॄति संग
    जुड़ा तन-मन
    पंच-तत्व की काया
    कहाँ जुदा हम ?
    बहुत सुंदर भावाव्यक्ति शब्द संयोजन कमाल का, बधाई......

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति..प्रकृति से अलग होना इतना आसान नहीं और इसका उपकार भूल कर हम केवल आपदाओं को आमंत्रित करते हैं..

    ReplyDelete
  11. वाह!!!!बहुत बढिया सार्थक प्रस्तुति,मन की भावनाओं की सुंदर अभिव्यक्ति ......
    WELCOME to--जिन्दगीं--
    समर्थक बन रहा हूँ आप भी बने,मुझे हार्दिक खुशी होगी,...

    ReplyDelete
  12. प्रकॄति संग
    जुड़ा तन-मन
    पंच-तत्व की काया
    कहाँ जुदा हम ?....सच कहा आपने...

    बहुत सुन्दर रचना...
    सादर.

    ReplyDelete
  13. प्रकृति से जीवन को जोड़ना अच्छा लगा

    ReplyDelete
  14. प्रकॄति संग
    जुड़ा तन-मन
    पंच-तत्व की काया
    कहाँ जुदा हम ?

    बहुत सुन्दर,सार्थक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  15. वाह ...बहुत ही बढिया।

    ReplyDelete
  16. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  17. प्रकृति है जीवनाधार
    असंख्य इसके उपकार
    दें हम भी प्रतिदान कुछ
    जीवन अपना लें सँवार
    सुंदर अभिव्यक्ती

    ReplyDelete
  18. bhaut acche lage dhundh me ye vichar.....

    ReplyDelete
  19. प्रकॄति संग
    जुड़ा तन-मन
    पंच-तत्व की काया
    कहाँ जुदा हम ?
    बेहतरीन भाव, वाह !!!

    ReplyDelete