वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Sunday, 4 March 2012

सँवरी है ज़िन्दगी............




सँवरी है ज़िन्दगी खुदा की इनायत है

अल्लाह की रहमत, उसकी करामात है 


नहीं पड़ते पाँव आजकल ज़मीं पे मेरे
ज़िंदगी एक ख्वाब हसीं, तेरी करामात है

रोशन है मेरे घर का हर कोना
मुट्‍ठी में मेरी आज़ कायनात है

खुशियों ने किया है घर मेरे बसेरा
ना मैं परेशां न कोई सवालात हैं

उदासियाँमायूसियाँ गुज़री बातें हैं
आपके पहलू में प्यार भरे ज़ज़्बात हैं

-सुशीला श्योराण

25 comments:

  1. रोशन है मेरे घर का हर कोना
    मुट्‍ठी में मेरी आज़ कायनात है

    बहुत ही सारगर्भित भाव । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  2. आपकी खुशी जायज़ है.....
    :-)

    ये सिलसिला चलता रहे....अनवरत...
    यही दुआ है...

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना..

    NEW POST...फिर से आई होली...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर उल्लास भरी प्रस्तुति है आपकी.
    पढकर आनंद का संचार होता है.
    मैं का असल स्वरुप 'सत्-चित-आनंद'ही है.
    हृदय में खुशी और आनंद का सदा दर्शन होता रहे ,यही दुआ है.

    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  5. उदासियाँ, मायूसियाँ गुज़री बातें हैं
    आपके पहलू में प्यार भरे ज़ज़्बात हैंऐसे ही इच रहे सब कुछ .
    बहुत खूब .रंगों की काव्यात्मक बरसात ले आई होरी ...

    ReplyDelete
  6. उदासियाँ, मायूसियाँ गुज़री बातें हैं
    आपके पहलू में प्यार भरे ज़ज़्बात हैं ,,,,

    जहां प्रेम होता है ... खुशियाँ वहाँ अपने आप आ जाती हैं ...
    सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  7. अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर ....इश्वर करे यह खुशियाँ सदा आपकी होके रहे ....
    आपको आमंत्रित करूंगी merehissekidhoop-saras.blogspot.in पर

    ReplyDelete
  8. आपको होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सारगर्भित भाव सुन्दर रचना ...
    आपको होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. बहुत ही बढ़िया मैम!


    सादर

    ReplyDelete
  11. कल 05/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया यशवंतजी !

      Delete
  12. खुशियों ने किया है घर मेरे बसेरा
    ना मैं परेशां न कोई सवालात हैं... bahut hi badhiya

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रश्मिजी

      Delete
  13. रोशन है मेरे घर का हर कोना
    मुट्‍ठी में मेरी आज़ कायनात है

    सुन्दर अभिव्यक्ति!
    सादर

    ReplyDelete
  14. आमीन...आपकी हर खुशी यूँ ही कायम रहे



    होली की बहुत बहुत शुभकामनयें

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
  15. आमीन....आपकी हर खुशी यूँ ही बनी रहे


    होली की बहुत बहुत शुभकामनएं

    ReplyDelete
  16. बहुत प्यारी सी अभिव्यक्ति है...
    ये मौसम कभी ना बदले...


    शुभकामनाएँ होली की...

    ReplyDelete
  17. बहुत ही बढ़िया प्रस्तुति है..
    आपकी यह ख़ुशी यू ही बरक़रार रहे
    होली की शुभकामनाए

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन भाव अभिव्यक्ति,
    शुभकामनाएँ होली की...

    ReplyDelete
  19. दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक
    dineshkidillagi.blogspot.com
    होली है होलो हुलस, हुल्लड़ हुन हुल्लास।
    कामयाब काया किलक, होय पूर्ण सब आस ।।

    ReplyDelete
  20. बहुत ही प्यारी रचना है ,अच्छा लगा पढ़कर

    आप को होली की खूब सारी शुभकामनाये :)

    नए ब्लॉग पर आप सादर आमंत्रित है पधारियेगा


    स्वास्थ्य के राज़ रसोई में: आंवले की चटनी
    razrsoi.blogspot.com

    ReplyDelete
  21. उदासियाँ, मायूसियाँ गुज़री बातें हैं
    आपके पहलू में प्यार भरे ज़ज़्बात हैं
    रोशन है मेरे घर का हर कोना
    मुट्‍ठी में मेरी आज़ कायनात है
    जीवन के अहसासों से सँवरी रचना. बहुत सुंदर लिखा है.

    ReplyDelete