वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Saturday, 31 March 2012

कस्तूरी प्रीत !




कस्तूरी प्रीत !


प्रीत के बिरवे

अंकुरित, पल्लवित

पुष्पित, सुरभित

गमके, महके

दूर से लहके

जिसके लिए खिले

रस, गंध को 

नित वह तरसे

कस्तूरी प्रीत !



मन एकाकी

दूर साथी

रहे जहाँ

मन वहाँ

न कोई चिठिया

न कोई तार

कैसे गलबहियाँ हार

मैं तो गई हार

अनूठी ये रीत

कस्तूरी प्रीत !


-सुशीला शिवराण



चित्र : आभार गूगल

18 comments:

  1. बहुत सुंदररचना ... ...!!
    बधाई एवं शुभकामनायें ...!

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा लिखा है,आपने

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  4. ......प्रशंसनीय प्रस्तुति
    पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ
    मैं ब्लॉगजगत में नया हूँ कृपया मेरा मार्ग दर्शन करे
    http://rajkumarchuhan.blogspot.in

    ReplyDelete
  5. बढ़िया प्रस्तुति ।।

    बधाई ।।

    ReplyDelete
  6. bahut sundar ...virah bhi baawri hai

    ReplyDelete
  7. अनूठी ये रीत

    कस्तूरी प्रीत !... संग संग रहे मेरे , फिर भी विकल रहे मन हर पल

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर....
    कस्तूरी प्रीत....
    खोजूं यहाँ वहाँ....बेवजह!!!!!

    अनु

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बढ़िया मैम


    सादर

    ReplyDelete
  10. जिसके लिए खिले
    रस, गंध को
    नित वह तरसे....सच कहा सुशिलाजी ...यह जन्मों का सच बहुत ही सुन्दर उकेरा है आपने

    ReplyDelete
  11. अनोखी रीत कस्तूरी प्रीत,...
    बहुत खूब सुंदर रचना,बेहतरीन भाव प्रस्तुति,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    ReplyDelete
  12. कस्तूरी प्रीत टाइटल ही बहुत कुछ कह गया।
    प्रीत जब कस्तूरी हुई मेरी दीवानगी की ना कोई हद रही

    ReplyDelete
  13. आपको रामनवमी और मूर्खदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ----------------------------
    कल 02/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  14. प्रेम कस्तूरी की प्रीत अनूठी ही होती है ... होई हद नहीं होती ...
    रामनवमी की बधाई ...

    ReplyDelete
  15. बहुत खूबसूरत शब्द विन्यास ....

    ReplyDelete
  16. वियोग जीवन का एक अटूट हिस्सा है ...कभी संतान से ...कभी साथी से ...कभी प्रियजनों से ....और उसकी टीस साफ़ उभरी है आपकी कविता में

    ReplyDelete
  17. भवनाओं के सुंदर प्रवाह की कविता है.

    ReplyDelete