वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Saturday, 16 June 2012

ताँका - छोड़ चले नीड़ !


लीजिए मित्रो आज ताँका लेकर हाज़िर हूँ । सबसे पहले जानकारी -

ताँका
ताँका  जापानी काव्य की कई सौ साल पुरानी काव्य शैली है । इस शैली को नौवीं शताब्दी से बारहवीं शताब्दी  के दौरान काफी प्रसिद्धि मिली। उस समय इसके विषय धार्मिक या दरबारी  हुआ करते थे । हाइकु का उद्भव इसी से हुआ । इसकी संरचना 5+7+5+7+7=31वर्णों की होती है।
ताँका  पाँच पंक्तियों और 5+7+5+7+7= 31 वर्णों के लघु कलेवर में भावों को गुम्फित करना सतत अभ्यास और सजग शब्द साधना से ही सम्भव  है ।
इसमें यह भ्रम नहीं होना चाहिए कि इसकी पहली तीन पंक्तियाँ कोई स्वतन्त्र हाइकु है । इसका अर्थ पहली से पाँचवीं पंक्ति तक व्याप्त होता है ।
रामेश्वर  काम्बोज  'हिमांशु ' ; डॉ . हरदीप  कौर  सन्धु


१)
चोंच से चुग्गा
देख-देख के जीती
चूज़े सयाने
उग आए जो पंख
छोड़ चले वो नीड़ !

२)
वृक्ष मचान
कटती दोपहर
बेर, कटारे
स्वाद जहां से न्यारे
जहां जिसपे वारे !

३)
आए बदरा
झूम के नाचा मोर
नंग-धड़ंग
कागज़-कश्‍ती हाथ
पुलका बचपन!

४)
बरसे मेघ
साथ ले हल-बैल
चला खेत को
अन्न उगाने वाला
पेट बाँध के जीता !

-सुशीला शिवराण


10 comments:

  1. बाप रे इस मुश्किल सी विधा को आपने कितनी सहजता से शब्दों में साधा है...आप तो विलक्षण प्रतिभावान हैं...बधाई...

    नीरज

    ReplyDelete
  2. इस विधा में लिखना आसान नहीं ... पर आपने कुछ मात्राओं में पूरा फलसफा कहा है ... बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  3. एक से बढ़के एक सजीव चित्र बचपन के किसानी के और ....जीवन के खटराग के चिड़िया चुग गई खेत उड़ गए चूजे बड़े हुए फुर्र . .कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhaia
    शनिवार, 30 जून 2012
    दीर्घायु के लिए खाद्य :
    http://veerubhai1947.blogspot.de/

    ज्यादा देर आन लाइन रहना बोले तो टेक्नो ब्रेन बर्न आउट

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  5. Its like you learn my thoughts! You appear to grasp so much about
    this, like you wrote the book in it or something. I think that you simply could do with some % to force the message home a little bit, but instead of that, that is excellent blog. An excellent read. I will certainly be back.

    my web blog - erovilla.com

    ReplyDelete
  6. These are in fact wonderful ideas in about blogging.
    You have touched some good factors here.

    Any way keep up wrinting.

    ReplyDelete
  7. Howdy! This article couldn't be written any better! Reading through this article reminds me of my previous roommate! He continually kept talking about this. I most certainly will forward this article to him. Pretty sure he will have a good read. I appreciate you for sharing!

    Stop by my site; hier

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete