वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Tuesday, 13 December 2011

ए सनम !




तुम दिल
 
मैं ज़ज़्बात
आओ लिखें
कोई गज़ल
कोई नज़्म
ए सनम !

तुम कागज़
मैं कलम
तुम हरफ़

मैं अहसास
आओ लिखें
कोई नग़मा
ए सनम !


तुम बादल

मैं बरसात
थोड़ा उमड़ें
थोड़ा घुमड़ें
भीगें साथ
ए सनम !

तुम प्रेम

मैं प्रीत
आओ छेड़ें
कोई राग
कोई गीत
ए सनम !

18 comments:

  1. तुम कागज़
    मैं कलम
    तुम भाव
    मैं हरफ़
    आओ लिखें
    कोई कविता
    ए सनम !

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  2. तुम बादल
    मैं बरसात
    थोड़ा उमड़ें
    थोड़ा घुमड़ें
    भीगें साथ
    ए सनम !

    बेहतरीन पंक्तियाँ रची हैं मैम !

    सादर

    ReplyDelete
  3. जुगलबंदी की अच्छी कल्पना.

    ReplyDelete



  4. तुम प्रेम
    मैं प्रीत
    आओ छेड़ें
    कोई राग
    कोई गीत
    ए सनम !

    वाह ! बहुत नेक ख़याल है … ☺

    आदरणीया सुशीला जी
    सादर नमस्कार !
    घणी घणी ओळ्यूं !!

    गीत ग़ज़ल रुबाई कविता का बहुत सुखद् संयोग है आपकी रचना में …

    लेकिन भीगें साथ पढ़ कर ही हमें तो सर्दी का एहसास हो रहा है …
    गरम पानी का इंतज़ाम रखिएगा …
    हा हाऽऽ… ! विनोद कर रहा था …


    सुंदर रचना के लिए
    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  5. आपके ब्लॉग पैर पहली बार आये हैं .सुंदर रचना हैं

    ReplyDelete
  6. @मोहन श्रोत्रिय - आपका हार्दिक आभार ! यूँ ही अनुगृह बनाए रखें ।

    ReplyDelete
  7. @Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार - घणी खम्मा और घणी घणी ओळ्यूं !!
    थारै सूँ तो मन्नै भोत-कुछ सीखणो है भाई सा ! हौंसळो बढावैण खातर धिनवाद ।

    ReplyDelete
  8. @यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) - You are the one person who is so young but doing the incredible job of providing a platform to the hundreds of unknown writers through your "हलचल"
    Thank you so much for all the appreciation which becomes an encouragement to write better. Thank you !

    ReplyDelete
  9. @आशा ढौंडियाल - धन्यवाद

    @Roshi- आपका बहुत-बहुत स्वागत !

    @amrendra "amar" - शुक्रिया अमरेन्द्र जी ।

    @Rajeev Upadhyay - आपका आभार !

    ReplyDelete
  10. ati sundar rachna .......pyar ki nishchha abhivykti

    ReplyDelete
  11. bahut sundar..vah..! kya baat hai..dil ke taar jhanjhanaa uthe...

    ReplyDelete
  12. तुम प्रेम
    मैं प्रीत
    आओ छेड़ें
    कोई राग
    कोई गीत
    ए सनम !
    बहुत सुंदर प्रेममयी रचना अच्छी लगी

    ReplyDelete
  13. युगल-भाव की सुंदरता का चित्रण करती भावमयी कविता. बहुत खूब.

    ReplyDelete