वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Saturday, 3 November 2012

हाइकु - करवाचौथ



आप सब का करवाचौथ बहुत ही उमंग और उल्लास भरा रहा होगा । इसी उमंग से निकले है ये हाइकु -

१)

शृंगार मेरा
पिया तेरी ही प्रीत
शेष है रीत !

२)
सजा मेंहदी
बिंदी, कजरा, माँग
पूजूँ मैं चाँद ।

३)
रची मेंहदी

सुर्ख रंग में बसा
प्रेम पिया का !

४)
चंदा की उम्र
लगे मेरे चाँद को
होंठों पे दुआ !
५)
पाऊँ हिना में

तेरे प्यार की खुश्‍बू
महक जाऊँ !

६)
सुर्ख हिना में

रची है तेरी प्रीत
ए मनमीत !

७)
कर्क चतुर्थी
लाए सुहाग पर्व
दिलों में हर्ष ।

- शील

28 comments:

  1. सुन्दर अति सुन्दर हाइकु.

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद अरून शर्मा जी ।

    ReplyDelete
  3. लाल रंग,प्रीत का रंग - चाँद भी निहारता है आज जी भर के

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके शब्द सदा ही नव-उत्साह, नव-ऊर्जा प्रदान करते हैं। आभार रश्मि जी।

      Delete
  4. बहुत सुंदर हाइकु ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार संगीता जी । आपसे प्रशंसा पा लेखन सार्थक हुआ।

      Delete
  5. बहुत सुंदर मनमोहक हाइकू,,,

    RECENT POST : समय की पुकार है,

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रशंसा के लिए ह्रदय से आभार धीरेन्द्र जी।

      Delete
  6. Replies
    1. शुक्रिया यशवन्त जी ।

      Delete
  7. पिया का प्यार जो मेंहंदी का रंग इतना गहरा है ,

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी संगीता जी ! उसी प्रीत से सुर्ख हुई है हथेली। आभार

      Delete
  8. सभी हाइकु बहुत प्यारे हैं..

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस स्नेहिल प्र्तिक्रिया के लिए आभार महेश्‍वरी जी।

      Delete
  9. हाइकू और हथेली की हिना दोनो सुंदर हैं करवाचौथ की बीलेटिड शुभकामनाऐं

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मनु त्यागी जी।

      Delete
  10. बहुत सुंदर हाइकु ..
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत और शुक्रिया Reena Maurya जी। स्नेह बनाए रखें।

      Delete
  11. बहुत ही बेहतरीन हाइकू ...मज़ा आ गया !!!

    ReplyDelete
  12. bahut pyaare hiku sushila jee .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रशंसा नई ऊर्जा का संचार करती है डॉ निशा महाराणा जी। आभार

      Delete
  13. रची मेंहदी
    सुर्ख रंग में बसा
    प्रेम पिया का !

    सभी हाइकु अर्थ करने में सक्षम हैं ....बेहतर है करवा चौथ पर यह प्रस्तुति .....!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाइकु का संज्ञान लेने और प्रशंसा करने के लिए आभार।

      Delete
  14. बहुत सुन्दर हाइकू.... करवाचौथ की बेहतरीन पेशकश!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शालिनी मैम

      Delete
  15. ~बहुत सुंदर हाइकू !:)
    " आज निहारूँ,
    बसाए अँखियों में..
    मैं 'दो दो' चाँद ! " :)

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर हाइकु...

    ReplyDelete
  17. प्यार और हिना का संबंध वाकई बहुतखूबसूरत होता है
    और आप अभिव्यक्ति भी बहुत ही सुन्दर बन पडी है बधाई
    मेरे भी कई अशआर व गीतों में यह बात आई है

    गीत गजल या गाली लिख/ बात मगर मतवाली लिख
    रोज हथेली पर उसके / गजलें मेहंदी वाली लिख



    पाऊँ हिना में
    तेरे प्यार की खुश्‍बू
    महक जाऊँ !

    ६)
    सुर्ख हिना में
    रची है तेरी प्रीत
    ए मनमीत !

    ReplyDelete