वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Saturday, 28 April 2012

आओ सारे बंधन तोड़ें



आओ सारे बंधन तोड़ें
बंधन पीर दे जाते हैं
आज बादलों संग उड़ें
देह वसन दे जाते हैं !

विचरेंगे जब अनंत गगन
मन में लिए तेरी लगन
खुदी में होंगे हम मगन
रूहों का संगम, नहीं बदन !

जन्म-मरण का न फेरा होगा
अपनी साँझ औ सवेरा होगा

वहाँ
 बंदिशों का न घेरा होगा
चँदा औ तारों में बसेरा होगा !

झिलमिल तारे अँगना होंगे
पिछवाड़े हरसिंगार झरेंगे

नित
खुशबुओं के डेरे होंगे
सीले झोंके पुरवाई होंगे !

अनंत व्योम विस्तार होगा
छूटा निर्मोही संसार होगा
हर दुख का निस्तार होगा
शाश्‍वत प्रेम अपार होगा !

रूह को रूह जब पाएगी
सारी सृष्‍टि खिल जाएगी

दिव्य गीत कोई गाएगी
पावन प्रीत मुस्काएगी !



-सुशीला शिवराण

चित्र - साभार गूगल

33 comments:

  1. बहुत ख़ूबसूरत भावमयी रचना...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार ।

      Delete
  2. अनंत व्योम विस्तार होगा
    छूटा निर्मोही संसार होगा
    हर दुख का निस्तार होगा
    शाश्‍वत प्रेम अपार होगा !

    आओ सारे बंधन तोडें.........
    काश के इतना आसान होता बंधनों को तोड़ पाना.....

    बहुत सुंदर सुशीला जी....

    ReplyDelete
  3. khoobasurat bhvnapradhan post bdhai.meri nai post par aapka svagat hae.

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है आपका। कविता पसंद करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  4. रूह को रूह जब पाएगी
    सारी सृष्‍टि खिल जाएगी
    आत्मा परमात्मा से मिल जाएगी
    परमानंद, परम् तृप्‍ति पा जाएगी !.... आध्यात्मिक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी टिप्पणी नई ऊर्जा देत्ती है। आपको कविता पसंद आई, हार्दिक आभार।

      Delete
  5. कल 29/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    हलचल - एक निवेदन +आज के लिंक्स

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका धन्यवाद यशवंत जी । आप ”नयी पुरानी हलचल” पर कविता पोस्ट कर रहे हैं तो आपको अवश्‍य ही पसंद आई होगी..:)

      Delete
  6. निराकार प्रणय की अप्रतिम प्रस्तुति सुशिलाजी ....!!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार सरस जी ...:))

      Delete
  7. सुन्दर प्रस्तुति ।

    बधाई स्वीकारें ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कविता को पसंद करने के लिए आभार

      Delete
  8. काश! की जीवन में बंधन नहीं होते ----------बहुत सुन्दर भाव |

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच ! कितना अच्छा होता हम भी पंछियों की तरह फ़ुर्र से उड़ जाते !
      बहरहाल ब्लॉग पर आपका स्वागत और कविता पसंद करने के लिए हार्दिक आभार।

      Delete
  9. Replies
    1. मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है पंछी जी ! कविता पसंद करने के लिए धन्यवाद

      Delete
  10. आओ सारे बंधन तोड़ें
    बंधन पीर दे जाते हैं
    सुन्दर प्रस्तुति ..बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. कविता पसंद करने के लिए शुक्रिया तुलिका जी !

      Delete
  11. Replies
    1. हार्दिक आभार उपासना जी

      Delete
  12. रूह को रूह जब पाएगी
    सारी सृष्‍टि खिल जाएगी
    दिव्य गीत कोई गाएगी
    पावन प्रीत मुस्काएगी !

    अच्छी कविता । मेरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद प्रेम सरोवर जी।
      आपके पोस्ट पर जल्द ही आऊँगी।

      Delete
  13. wah very beautiful lines...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रेवा जी।

      Delete
  14. बेहतरीन रचना
    अरुन (arunsblog.in)

    ReplyDelete
  15. आओ सारे बंधन तोड़ेँ
    बंधन पीर दे जाते हैं
    आज बादलों संग उड़ें
    देह वसन दे जाते हैं !
    ...... बहुत सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार सुरेन्द्रपाल वैद्‍य जी।

      Delete
  16. सुशीला जी पूरी कविता बहुत भावप्रवण है । ये पंक्तियाँ गहन सौन्दर्य से सिंचित हैं-
    झिलमिल तारे अँगना होंगे
    पिछवाड़े हरसिंगार झरेंगे
    नित खुशबुओं के डेरे होंगे
    सीले झोंके पुरवाई होंगे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया से नई ऊर्जा मिलती है । प्रोत्साहन के लिए हार्दिक आभार!

      Delete
  17. सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  18. सारगर्भित रचना । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  19. सार गर्भित ... भावपूर्ण गहरी रचना ... काव्यमय बहती हुयी ...

    ReplyDelete